(इनफोकस - InFocus) विदेशी एजेंट्स पंजीकरण अधिनियम, 1938 (Foreign Agents Registration Act (FARA) 1938)


(इनफोकस - InFocus) विदेशी एजेंट्स पंजीकरण अधिनियम, 1938 (Foreign Agents Registration Act (FARA) 1938)



सुर्ख़ियों में क्यों?

हाल ही में, ‘ओवरसीज़ फ्रेंड्स ऑफ बीजेपी’ यानी OFBJP संगठन ने अपने आप को अमेरिका के कानून ‘विदेशी एजेंट्स पंजीकरण अधिनियम’ के अंतर्गत पंजीकृत कराया है. भारतीय जनता पार्टी भारत में मुख्यधारा की ऐसी पहली राजनीतिक पार्टी बन गई है, जिसने संयुक्त राज्य अमेरिका में किसी संगठन के विदेशी प्रमुख के रूप में नाम दर्ज कराया है।

क्या है विदेशी एजेंट्स पंजीकरण अधिनियम (FARA)?

अमेरिका द्वारा इस क़ानून को वहां फासीवाद के प्रसार पर लगाम लगाने के मकसद से साल 1938 में लाया गया था।

  • इस क़ानून के मुताबिक, वहां सक्रिय विदेशी एजेंटों को अमेरिकी जस्टिस डिपार्टमेंट के अंतर्गत रजिस्ट्रेशन कराना और अपनी गतिविधियों को जनता के सामने बताना जरूरी है।
  • साथ ही, इस कानून के अंतर्गत राजनैतिक या अर्द्ध-राजनीतिक रूप से विदेशी शक्तियों के हितों का प्रतिनिधित्व करने वाले एजेंटों को भी विदेशी सरकार के साथ अपने संबंधों और उनसे मिलने वाले आर्थिक सहायता के बारे में बताना आवश्यक होता है।

महत्वपूर्ण बिंदु

यह पंजीकरण यानी रजिस्ट्रेशन अमेरिकी जस्टिस डिपार्टमेंट के तहत 27 अगस्त, 2020 को करवाया गया था। रजिस्ट्रेशन हो जाने के बाद OFBJP को अमेरिकी सांसदों से बैठक, कार्यक्रमों के आयोजन, अमेरिकी समूहों से मिलने वाले आर्थिक सहायता आदि की जानकारी देनी होगी।

ग़ौरतलब है कि अमेरिकी क़ानूनों के मुताबिक, OFBJP के सदस्य वहां के आगामी चुनावों में संगठनात्मक सहयोग नहीं कर सकते. अगर उन्होंने ऐसा किया तो इसे अमेरिकी चुनावों में विदेशी हस्तक्षेप के तौर पर माना जाएगा, और OFBJP पर क़ानूनी कार्रवाई की जा सकती है।

क्यों जरूरी है FARA?

इस कानून का मुख्य मकसद संयुक्त राज्य अमेरिका के भीतर विदेशी प्रभाव के बारे में पारदर्शिता को बढ़ावा देना है।

  • इसके मुताबिक, ऐसे विदेशी एजेंट जो अमेरिकी सार्वजनिक राय, नीति और क़ानूनों को प्रभावित करते हैं, उन्हें अमेरिकी सरकार और अमेरिकी जनता के सामने कुछ जरूरी जानकारियाँ देनी होती हैं।
  • इसका मतलब यह हुआ कि FARA, संयुक्त राज्य अमेरिका में विदेशी प्रभाव और राष्ट्रीय सुरक्षा के संभावित खतरों की पहचान करने के लिहाज से एक महत्त्वपूर्ण कानून है।

FARA के उल्लंघन पर सजा की क्या व्यवस्था है?

  • अगर कोई विदेशी एजेंट इस कानून का अनजाने में या केवल कुछ सीमा तक उल्लंघन करता है तो उसे 6 महीने से ज्यादा तक की जेल या 5,000 अमेरिकी डॉलर का जुर्माना या दोनों हो सकता है।
  • इसके अलावा, अगर कोई विदेशी एजेंट जानबूझ कर FARA के नियमों का उल्लंघन करता है तो उसे 5 साल तक की जेल या 250,000 अमेरिकी डॉलर का जुर्माना या फिर दोनों हो सकता है।