(डाउनलोड) उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) मुख्य परीक्षा वैकल्पिक विषय पाठ्यक्रम हिंदी में "उर्दू साहित्य" (Download) UPPCS Mains Optional Subject Exam Syllabus in Hindi (Urdu Literature)


(डाउनलोड) उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) मुख्य परीक्षा वैकल्पिक विषय पाठ्यक्रम हिंदी में "उर्दू साहित्य" (Download) UPPCS Mains Optional Subject Exam Syllabus in Hindi (Urdu Literature)


:: प्रश्नपत्र - I (Paper - I)::

भाग-अ (Part - A)

1-(अ) उर्दू भाषा का विकास:

(अ) पश्चिमी हिन्दी और उसकी उप भाषायें - खड़ी बोली, ब्रजभाषा और हरियाणवीं।
(ब) उर्दू भाषा में फारसी -अरबी तत्व,
(स) उर्दू भाषा सन् 1600 ई से 1900 ई0 तक
(द) उर्दू भाषा का उद्भव- विभिन्न विचारधारायें।

2-

(अ) दकन में उर्दू साहित्य का विकास
(ब) उर्दू शायरी के दो क्लासिकी स्कूलः देहली और लखनऊ
(स) उर्दू गद्य का विकास - गालिब तक ।

3-

(अ) अलीगढ़ तहरीक, पग्र तिशील आंदोलन तथा इनका उर्दू साहित्य पर प्रभाव
(ब) स्वतत्रंयोत्तर का उर्दू साहित्य।

भाग-ब (Part - B)

1. उर्दू शायरी की प्रमुख विधायें - गजल, कसीदा, मर्सिया, मसनवी, रूबाई, कता नज्म, अतुकान्त कविता एवं मुक्त छन्द कविता।

2. उर्दू गद्य की प्रमुख विधायें - दास्तान, उपन्यास, लघु कथा, नाट्य साहित्य, साहित्य समीक्षा, जीवन चरित्र, निबन्ध, खाका, इंशाईया।

3. स्वंतत्रता आन्दोलन में उर्दू साहित्य का योगदान।

:: प्रश्न पत्र - II (Paper - II) ::

इस प्रश्न -पत्र में मूल पाठ का अध्ययन अपेक्षित होगा। इसमें ऐसे प्रश्न पूछे जायेंगे जिनसे परीक्षार्थी की आलोचनात्मक क्षमता का आंकलन किया जा सके।

भाग-अ (Part - A)

(गद्य)-

1. मीर अम्मनः बागो बहार,

2. गालिबः इंतेखाब - ए- खुतूते गालिब, सम्पादक -उ0प्र0 उर्दू अकाडमी,

3. हालीः मुकदमा-ए-शेरो शायरी

4. रूसवाः उमरावजान अदा

5. प्रेमचन्द्रः प्रेमचन्द्र के नुमाइन्दा अफसाने, सम्पादक- कमर रईस

6. अबुल कलाम अजादः गुबार - ए- खातिर,

7. इम्तियाज अली ताज- अनारकली

8. कुर्रतुलऐन हैदरः आखिर - ए- शब के हमसफर।

भाग-ब (Part - B)

9. मीरः इंतेखाब -ए-कलाम-ए-मीर, सम्पादक -अब्दुल हक

10. सौदाः कसाईद- ए- सौदा हज्वीयात सहित -इन्तेखाब -ए- कंसायदः उ0प्र0 उर्दू अकादमी लखनऊ,

11. गालिबः दीवान -ए- गालिब,

12. इकबालः कुल्लियात-ए- इकबाल (केवल बाल -ए- जिब्राइल)

13. जोश मलीहाबादीः सैफ-ओ-सुबू

14. फिराक गोरखपुरी: गुल -ए-नगमा

15. फैजः दस्त-ए-सबा,

16. अख्तर -उल- ईमानः (केवल दो नज्में: तारीक सय्यारा, बिन्त-ए-लम्हात)।

<< मुख्य पृष्ठ पर वापस जाने के लिये यहां क्लिक करें