यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में डेली स्टेटिक MCQs क्विज़ : अर्थव्यवस्था "Economy" (28, सितंबर 2023)


यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में डेली स्टेटिक MCQ क्विज़

(Daily Static MCQs Quiz for UPSC, IAS, UPPSC/UPPCS, MPPSC, BPSC, RPSC & All State PSC Exams)

विषय (Subject): अर्थव्यवस्था (Economy)


1. अंतर्राष्ट्रीय वित्त निगम (IFC) के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:

1. यह विश्व बैंक की एक शाखा है जो निवेश, सलाहकार और परिसंपत्ति-प्रबंधन सेवाएं प्रदान करती है।
2. यह विकासशील देशों में निजी क्षेत्र के विकास को प्रोत्साहित करता है।
3. IFC टिकाऊ कृषि, स्वास्थ्य देखभाल और शिक्षा पर भी ध्यान केंद्रित करता है।

उपर्युक्त में से कितने कथन सही हैं/हैं?

(a) केवल एक
(b) केवल दो
(c) सभी तीन
(d) कोई भी नहीं

उत्तर: (C)

व्याख्या: अंतर्राष्ट्रीय वित्त निगम (आईएफसी) एक अंतरराष्ट्रीय वित्तीय संस्थान है जो विकासशील देशों में निजी क्षेत्र के विकास को प्रोत्साहित करने के लिए निवेश, सलाह और परिसंपत्ति-प्रबंधन सेवाएं प्रदान करता है। IFC विश्व बैंक समूह का सदस्य है और इसका मुख्यालय संयुक्त राज्य अमेरिका में वाशिंगटन, डी.सी. में है। इसकी स्थापना 1956 में, विश्व बैंक समूह की निजी क्षेत्र की शाखा के रूप में, गरीबी कम करने और विकास को बढ़ावा देने के लिए लाभकारी और वाणिज्यिक परियोजनाओं में निवेश करके आर्थिक विकास को आगे बढ़ाने के लिए की गई थी। 2009 से, IFC ने विकास लक्ष्यों के एक सेट पर ध्यान केंद्रित किया है जिसे उसकी परियोजनाओं द्वारा लक्षित करने की अपेक्षा की जाती है। इसका लक्ष्य स्थायी कृषि अवसरों को बढ़ाना, स्वास्थ्य देखभाल और शिक्षा में सुधार करना, माइक्रोफाइनेंस और व्यावसायिक ग्राहकों के लिए वित्तपोषण तक पहुंच बढ़ाना, बुनियादी ढांचे को आगे बढ़ाना, छोटे व्यवसायों को राजस्व बढ़ाने में मदद करना और जलवायु स्वास्थ्य में निवेश करना है। अतः सभी कथन सही हैं।

2. आप सरकार के राजस्व और पूंजीगत प्राप्तियों के बीच अंतर कैसे करेंगे?

1. कुछ पूंजीगत प्राप्तियों के विपरीत राजस्व प्राप्तियाँ गैर-प्रतिदेय होती हैं।
2. राजस्व प्राप्तियों के विपरीत पूंजीगत प्राप्तियां हमेशा ऋण पैदा करने वाली होती हैं।

उपर्युक्त में से कौन सा/से कथन सही है/हैं?

(a) केवल 1
(b) केवल 2
(c) 1 और 2 दोनों
(d) न तो 1 और न ही 2

उत्तर: (A)

व्याख्या: राजस्व प्राप्तियों और पूंजीगत प्राप्तियों के बीच मुख्य अंतर यह है कि राजस्व प्राप्तियों के मामले में, सरकार भविष्य में राशि वापस करने के लिए बाध्य नहीं है, यानी, वे गैर-प्रतिदेय हैं। लेकिन पूंजीगत प्राप्तियों के मामले में, जो उधार हैं, सरकार ब्याज सहित राशि वापस करने के लिए बाध्य है। अतः कथन 1 सही है।

पूंजीगत प्राप्तियां ऋण सृजन करने वाली या गैर ऋण सृजन करने वाली हो सकती हैं। ऋण सृजन प्राप्तियों के उदाहरण हैं-घरेलू सरकार द्वारा शुद्ध उधार, विदेशी सरकारों से प्राप्त ऋण, आरबीआई से उधार। गैर-ऋण पूंजीगत प्राप्तियों के उदाहरण हैं- ऋणों की वसूली, सार्वजनिक उद्यमों की बिक्री से प्राप्त आय (यानी, विनिवेश), आदि। ये ऋण को जन्म नहीं देते हैं। अतः कथन 2 सही नहीं है।

3. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए:

1. लचीली विनिमय दर प्रणाली में, बाजार की ताकतें मुद्रा का मूल्य निर्धारित करती हैं।
2. विदेशी मुद्रा बाजार में रुपये की मांग भारतीय निर्यात की विदेशी मांग पर निर्भर करती है।
3. मुद्रा की सराहना किसी देश की निर्यात गतिविधि को प्रोत्साहित करती है क्योंकि उसके उत्पाद और सेवाएँ खरीदना सस्ता हो जाता है।

उपर्युक्त में से कितने कथन सही हैं/हैं?

(a) केवल एक
(b) केवल दो
(c) सभी तीन
(d) कोई भी नहीं

उत्तर: (B)

व्याख्या:

  • विदेशी मुद्रा बाजार में रुपये की आपूर्ति आयात और विभिन्न विदेशी परिसंपत्तियों की मांग से निर्धारित होती है। इसलिए, यदि तेल आयात करने की उच्च मांग है, तो इससे विदेशी मुद्रा बाजार में रुपये की आपूर्ति में वृद्धि हो सकती है और रुपये का मूल्य गिर सकता है। दूसरी ओर, विदेशी मुद्रा बाजार में रुपये की मांग भारतीय निर्यात और अन्य घरेलू संपत्तियों की विदेशी मांग पर निर्भर करती है। उदाहरण के लिए, जब विदेशी निवेशकों में भारत में निवेश करने के लिए बहुत उत्साह होता है, तो इससे विदेशी मुद्रा बाजार में डॉलर की आपूर्ति में वृद्धि हो सकती है, जिसके परिणामस्वरूप डॉलर के मुकाबले रुपये का मूल्य बढ़ जाता है।
  • अवमूल्यन बनाम मूल्यह्रास:
  • एक फ्लोटिंग विनिमय दर प्रणाली में, बाजार की ताकतें (मुद्रा की मांग और आपूर्ति के आधार पर) मुद्रा का मूल्य निर्धारित करती हैं।
  • मुद्रा अवमूल्यन: यह दूसरी मुद्रा के संबंध में एक मुद्रा के मूल्य में वृद्धि है।
  • सरकारी नीति, ब्याज दरें, व्यापार संतुलन और व्यापार चक्र सहित कई कारणों से मुद्राएं एक-दूसरे के मुकाबले बढ़ती हैं।
  • मुद्रा अवमूल्यन किसी देश की निर्यात गतिविधि को हतोत्साहित करती है क्योंकि उसके उत्पाद और सेवाएँ खरीदना महंगा हो जाता है।

अतः कथन 3 सही नहीं है।

4. निम्नलिखित में से कौन सा कथन राजकोषीय फिजूलखर्ची शब्द का सबसे अच्छा वर्णन करता है?

(a) विभिन्न देशों की कर प्रणालियों के बीच राजकोषीय बाधाओं और विसंगतियों को दूर करना
(b) नए उद्योगों के लिए आयकर छूट
(c) इस तरह से पैसा खर्च करने का कार्य जो बुद्धिमानी नहीं है
(d) प्रस्तावित कानून के लिए लागत या राजस्व का आधिकारिक अनुमान

उत्तर: (C)

व्याख्या: राजकोषीय फिजूलखर्ची राजकोषीय विवेकशीलता के विपरीत है। यह पैसा खर्च करने या किसी चीज़ का इस तरह से उपयोग करने का कार्य है जो इसे बर्बाद करता है और बुद्धिमानी नहीं है। राज्य स्तर पर राजकोषीय फिजूलखर्ची की लागत बहुत बड़ी हो सकती है। अतः विकल्प (c) सही है।

5. भारत के लिए, अंतर्राष्ट्रीय कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि निम्नलिखित में से किसका कारण बन सकती है?

1. डॉलर के मुकाबले रुपया कमजोर
2. चालू खाता घाटा और राजकोषीय घाटा में वृद्धि
3. इससे मुद्रास्फीति बढ़ती है
4. खाद्य तेल की कीमतों में बढ़ोतरी

नीचे दिए गए कोड का उपयोग करके सही उत्तर चुनिए:

(a) 1, 2 और 3
(b) 1, 3 और 4
(c) 1, 2 और 4
(d) उपर्युक्त सभी

उत्तर: (D)

व्याख्या: भारत अपनी कच्चे तेल की आवश्यकता का लगभग 85% आयात करता है। आयात बिल में वृद्धि से न केवल मुद्रास्फीति बढ़ती है और चालू खाता घाटा और राजकोषीय घाटा बढ़ता है, बल्कि डॉलर के मुकाबले रुपया भी कमजोर होता है और शेयर बाजार की धारणा को नुकसान पहुंचता है। कच्चे तेल की कीमत में वृद्धि का भारत पर भी अप्रत्यक्ष प्रभाव पड़ता है क्योंकि इससे खाद्य तेल की कीमतों, कोयले की कीमतों और उर्वरक की कीमतों में भी वृद्धि होती है क्योंकि वे फीडस्टॉक के रूप में गैस का उपयोग करते हैं। सभी उर्वरक उत्पादन लागत में गैस की हिस्सेदारी 80% है। इसलिए यदि कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि से आयात बोझ बहुत बढ़ सकता है, तो इससे अर्थव्यवस्था में मांग में भी कमी आती है जो विकास को नुकसान पहुंचाती है। यदि सरकार सब्सिडी के माध्यम से बोझ उठाने का विकल्प चुनती है तो इससे राजकोषीय घाटा भी बढ़ सकता है। अतः सभी सही हैं।