यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में करेंट अफेयर्स MCQs क्विज़ : 16, अगस्त 2022


यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में डेली करेंट अफेयर्स MCQ क्विज़

(Daily Current Affairs MCQs Quiz for UPSC, IAS, UPPSC/UPPCS, MPPSC, BPSC, RPSC & All State PSC Exams)

तारीख (Date): 16, अगस्त 2022


प्रश्न 1. SWAYAM पहल के संबंध में बहने वाले बयानों पर विचार करें:

1. यह एक इंडियन मैसिव ओपन ऑनलाइन कोर्स (MOOC) प्लेटफॉर्म है।
2. इसे इंफोसिस की मदद से शिक्षा मंत्रालय द्वारा सहकारी रूप से विकसित किया गया है।

ऊपर दिए गए कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

a) केवल 1
b) केवल 2
c) 1 और 2 दोनों
d) न तो 1 और न ही 2

उत्तर: (A)

व्याख्या:

  • SWAYAM एक संक्षिप्त रूप है जो "युवा महत्वाकांक्षी दिमागों के लिए सक्रिय-शिक्षण के अध्ययन वेब" के लिए खड़ा है।
  • यह एक इंडियन मैसिव ओपन ऑनलाइन कोर्स (MOOC) प्लेटफॉर्म है। SWAYAM पहल को तत्कालीन मानव संसाधन विकास मंत्रालय (M.H.R.D.) (अब शिक्षा मंत्रालय), भारत सरकार द्वारा डिजिटल इंडिया के तहत एक समन्वित चरण और वेब पाठ्यक्रमों में मुफ्त प्रवेश देने के लिए शुरू किया गया था, जिसमें सभी उन्नत शिक्षा, हाई स्कूल, और कौशल क्षेत्र के पाठ्यक्रम।
  • SWAYAM को MHRD (मानव संसाधन विकास मंत्रालय), और AICTE (अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद) ने Microsoft की मदद से सहकारी रूप से विकसित किया है।
  • वर्तमान SWAYAM प्लेटफॉर्म को शिक्षा मंत्रालय और NPTEL, IIT मद्रास द्वारा Google Inc. और Persistent Systems Ltd. की मदद से विकसित किया गया है, और 2,000 पाठ्यक्रमों की सुविधा के लिए सुसज्जित है।

प्रश्न 2. निम्नलिखित में से कौन इंटरनेशनल नॉर्थ-साउथ ट्रांसपोर्ट कॉरिडोर (INSTC) के संस्थापक सदस्य हैं?

1. भारत
2. ईरान
3. अफगानिस्तान
4. कजाकिस्तान
5. रूस

नीचे दिए गए कूट का प्रयोग कर सही उत्तर चुनिए:

a) केवल 1, 2, और 3
b) 1, 3, 4, 5 केवल
c) केवल 1, 2, और 5
d) 1, 2, 3, 4, 5 केवल

उत्तर: (C)

व्याख्या:

  • इसे 2000 में भारत, रूस और ईरान के साथ इसके संस्थापक सदस्यों के रूप में लॉन्च किया गया था। कॉरिडोर को साकार करने का काम 2002 में शुरू हुआ था।
  • तब से, INSTC की सदस्यता में 10 और देशों - अजरबैजान, आर्मेनिया, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान, तुर्की, यूक्रेन, सीरिया, बेलारूस और ओमान को शामिल किया गया है।

प्रश्न 3. निम्नलिखित स्थानों पर विचार करें:

1. शक्सगाम घाटी
2. सियाचिन ग्लेशियर
3. पैंगोंग त्सो झील
4. डेमचोक

निम्नलिखित को उत्तर से दक्षिण की ओर व्यवस्थित करें:

a) 1-2-3-4
b) 2-1-4-3
c) 1-2-4-3
d) 2-1-3-4

उत्तर: (A)

प्रश्न 4. इसरो के लघु उपग्रह प्रक्षेपण यान (SSLV) के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार करें:

1. यह तीन चरणों वाला प्रक्षेपण यान है जिसे तीन ठोस प्रणोदन चरणों के साथ कॉन्फ़िगर किया गया है।
2. यह 500 किलो तक के उपग्रह द्रव्यमान को 500 किमी कम पृथ्वी की कक्षा (LEO) में लॉन्च कर सकता है।

ऊपर दिए गए कथनों में से कौन-सा/से सही है/हैं?

a) केवल 1
b) केवल 2
c) 1 और 2 दोनों
d) न तो 1 और न ही 2

उत्तर: (C)

व्याख्या:

  • एसएसएलवी एक तीन चरणों वाला पूर्ण-सॉलिड वाहन है और यह 500 किलोग्राम तक के उपग्रह द्रव्यमान को 500 किमी कम पृथ्वी की कक्षा (एलईओ) और 300 किलोग्राम तक सूर्य तुल्यकालिक कक्षा (एसएसओ) में प्रक्षेपित कर सकता है।
  • यह एक 3 चरण का प्रक्षेपण यान है जिसे तीन ठोस प्रणोदन चरणों और एक तरल प्रणोदन-आधारित वेग ट्रिमिंग मॉड्यूल (VTM) के साथ टर्मिनल चरण के रूप में कॉन्फ़िगर किया गया है।

प्रश्न 5. भारत में फिनटेक क्षेत्र के विनियमन के संबंध में निम्नलिखित कथनों पर विचार करें:

1. भुगतान और निपटान प्रणाली अधिनियम 2007
2. 2017 के पीयर-टू-पीयर लेंडिंग दिशानिर्देश
3. भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम विनियम
4. आरबीआई अधिनियम 1934
5. बैंकिंग विनियमन अधिनियम 1949

उपरोक्त में से कौन इस क्षेत्र को नियंत्रित करता है?

a) केवल 1, 4 और 5
b) केवल 4 और 5
c) केवल 1, 2 और 3
d) ऊपर के सभी

उत्तर: (D)

व्याख्या: भारत में फिनटेक क्षेत्र का विनियमन

  1. 2007 का भुगतान और निपटान प्रणाली अधिनियम
  2. 2017 के पीयर-टू-पीयर लेंडिंग दिशानिर्देश
  3. नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के यूपीआई भुगतान के लिए नियम।
  4. 1934 के आरबीआई अधिनियम के तहत एनबीएफसी को नियंत्रित करने वाले विनियम
  5. बैंकिंग विनियम अधिनियम 1949 के तहत भुगतान बैंकों को नियंत्रित करने वाले विनियम।

प्रश्न 6. एटीएजीएस परियोजना के संबंध में निम्नलिखित में कौन सा/से कथन सत्य हैं?

1. इस परियोजना का संचालन हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड द्वारा किया जा रहा है।
2. इसके तहत स्वदेशी होवित्जर तोपों का निर्माण किया जा रहा है।

A. केवल 1
B. केवल 2
C. 1 और 2 दोनों
D. इनमें से कोई नहीं

उत्तर: (B)

व्याख्या: इस साल लाल किले पर स्वतंत्रता दिवस समारोह में 21 तोपों की सलामी स्वदेशी आर्टेलरी गन से दी जाएगी। अभी तक परंपरागत रूप से सलामी के लिए ब्रिटिश तोपें इस्तेमाल की जा रही थीं, लेकिन इस बार इन तोपों के साथ स्वदेशी होवित्जर तोप भी सलामी देंगी। इसके लिए एडवांस्ड टाड आर्टिलरी गन सिस्टम प्रोटोटाइप का उपयोग किया जाएगा। बता दें कि एटीएजीएस परियोजना को डीआरडीओ द्वारा साल 2013 में शुरू किया गया था। इसके तहत भारतीय सेना में जो पुरानी तोपें हैं उनकी जगह आधुनिक 155 एमएम आर्टिलरी गन को बढ़ावा दिया जा रहा है। इस तरह एटीएजीएस 155 एमएम कैलिबर गन सिस्टम है जिसमें 48 किलोमीटर की फायरिंग रेंज के साथ-साथ उच्च गतिशीलता, त्वरित तैनाती, रात के दौरान प्रत्यक्ष-फायर पद्धति में स्वचालित कमांड और नियंत्रण प्रणाली जैसी आधुनिक विशेषताएं हैं। डीआरडीओ ने ‘मेक इन इंडिया’ के तहत इस एडवांस्ड टोड आर्टिलरी गन सिस्टम को विकसित किया है।

प्रश्न 7. ‘लैंग्या वायरस’ के संबंध में निम्नलिखित में कौन सा कथन असत्य है?

A. इसे हेनिपावायरस के नाम से भी जाना जाता है।
B. इस वायरस के प्रसार को ट्रैक करने के लिए न्यूक्लिक एसिड टेस्ट का उपयोग किया जाता है।
C. इंसानों में लांग्या पहली बार चीन के शैनडॉन्ग प्रांत में जनवरी 2019 में पाया गया था।
D. इस वायरस की प्रकृति निपाह वायरस के बिल्कुल विपरीत है।

उत्तर: (D)

व्याख्या: हाल ही में चीन में एक जूनोटिक लैंग्या वायरस मिला है। लैंग्या वायरस को हेनिपावायरस के नाम से भी जाना जाता है और यह जानवरों से इंसानों में फैलता है। इस वायरस के प्रसार को ट्रैक करने के लिए न्यूक्लिक एसिड टेस्ट का उपयोग किया जाता है। गौरतलब है कि इंसानों में लांग्या पहली बार चीन के शैनडॉन्ग प्रांत में जनवरी 2019 में पाया गया था। इसके लक्षण ज्यादातर हल्के ही प्रतीत हो रहे हैं, जिनमें बुखार, थकान, खांसी, भूख न लगना, हड्डियों में दर्द, उलटी और सिरदर्द शामिल हैं। बीमारी कहां से आया … इस बारे में विशेषज्ञों की राय बंटी हुई है। लेकिन ज्यादातर विशेषज्ञों का मानना है कि यह वायरस छछूंदरों के तरह के छोटे जानवरों से आया है, जिनका शरीर लंबा, छोटा, पतले अंग और पंजे वाला होता है। यह नया वायरस दो अन्य वायरस का करीबी दिखायी देता है, जो मनुष्यों में पाए जाते हैं - यह हैं निपाह वायरस और हेंड्रा वायरस। हालांकि अभी जो भी जानकारी इस वायरस के बारे में उपलब्ध है वह पर्याप्त नहीं है, इसलिए कोई सटीक बात कहना मुश्किल है।