यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में करेंट अफेयर्स MCQs क्विज़ : 13, मई 2022


यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में डेली करेंट अफेयर्स MCQ क्विज़

(Daily Current Affairs MCQs Quiz for UPSC, IAS, UPPSC/UPPCS, MPPSC. BPSC, RPSC & All State PSC Exams)

तारीख (Date): 13, मई 2022


प्रश्न 1. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए :

1. कार्बन पृथक्करण वायुमंडलीय कार्बन डाइऑक्साइड को कैप्चर और संग्रहीत करने की प्रक्रिया है।
2. कार्बन कैप्चर की विधियों के अंतर्गत जैविक, भूवैज्ञानिक और तकनीकी विधियां शामिल हैं।

उपरोक्त में से कौन सा/से कथन सही है/हैं?

a) केवल 1
b) केवल 2
c) दोनों 1 और 2
d) इनमें से कोई नहीं

उत्तर: (C)

व्याख्या:

  • कार्बन पृथक्करण वायुमंडलीय कार्बन डाइऑक्साइड को कैप्चर और संग्रहीत करने की एक प्रक्रिया है। यह वैश्विक जलवायु परिवर्तन को कम करने के लक्ष्य के साथ वातावरण में कार्बन डाइऑक्साइड की मात्रा को कम करने का एक तरीका है।
  • कार्बन कैप्चर की तीन विधियाँ जैविक, भूवैज्ञानिक और तकनीकी विधि है।

प्रश्न 2. निम्नलिखित कथनों पर विचार कीजिए :

1. भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) भारत में फ्रंट-रनिंग से संबंधित प्रावधानों को विनियमित करता है।
2. भारत में फ्रंट-रनिंग अवैध है।

उपर्युक्त कथनों में से कौन सा/से कथन सही है/हैं?

a) केवल 1
b) केवल 2
c) 1 और 2 दोनों
d) इनमें से कोई भी नहीं

उत्तर: (B)

व्याख्या:

  • भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी) किसी भी व्यक्ति के खिलाफ अदालत में आपराधिक कार्यवाही शुरू कर सकता है जो अनुचित व्यापार प्रथाओं में लिप्त है, जिसमें फ्रंट रनिंग भी शामिल है।
  • भारत में फ्रंट-रनिंग अवैध है।

प्रश्न 3. जेर्डन कौरसर के बारे में निम्नलिखित कथनों पर विचार करें :

1. यह प्रजाति भारत के उत्तर-पूर्वी क्षेत्र के लिए स्थानिक है।
2. इस प्रजाति की IUCN स्थिति संवेदनशील है।

कूटों का प्रयोग कर सही कथन/कथनों का चुनाव करें।

a) केवल 1
b) केवल 2
c) दोनों
d) कोई भी नहीं

उत्तर: (D)

व्याख्या:

जेर्डन कौरसर :-

  • यह भारत में स्थानीय रूप से आंध्र प्रदेश के पूर्वी घाट में पाई जाने वाली प्रजाति है।
  • यह वर्तमान में केवल श्रीलंकामल्लेश्वर वन्यजीव अभयारण्य में पाई जाती है जहां यह विरल झाड़ियों में रहते हैं।
  • आईयूसीएन स्थिति- गंभीर रूप से संकटग्रस्त

प्रश्न 4. ‘बामियान बुद्ध’ के संबंध में निम्नलिखित में से कौन सा कथन असत्य है?

A. इनकी प्रतिमाएं आज के अफ़ग़ानिस्तान से होकर गुजरने वाले प्राचीन सिल्क मार्ग पर स्थित हैं।
B. बामियान बुद्ध की प्रतिमाओं को बलुआ पत्थर की चट्टानों को काटकर बनाया गया था।
C. एक समय था जब बामियान बुद्ध की प्रतिमा दुनिया की सबसे छोटी बुद्ध की खड़ी प्रतिमा थी।
D. बामियान बुद्ध यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों की सूची में शामिल है।

उत्तर: (C)

व्याख्या: बामियान अफगानिस्तान के मध्य ऊँचाई वाले क्षेत्रों में हिंदूकुश के ऊँचे पहाड़ों में स्थित है। यहां पर भगवान बुद्ध की कई प्राचीन मूर्तियां थी। बलुआ पत्थर की चट्टानों से काटकर बनी बामियान बुद्ध की ये मूर्तियाँ 5वीं शताब्दी की हैं। एक समय था जब यहाँ दुनिया की सबसे ऊँची बुद्ध की खड़ी प्रतिमा मौजूद थी। 1990 के दशक में जब अफगानिस्तान में तालिबान शासन आया तो उसने इन मूर्तियों को बम से उड़ा दिया। हालांकि कुछ ध्वंसावशेष शेष रह गए, जिनको लेकर अभी कुछ ही दिन पहले तालिबान शासन ने कहा था कि वह इन प्राचीन बामियान बुद्ध प्रतिमाओं के संरक्षण का काम करेगा। दरअसल मेस अयनाक जहां कि यह मूर्तियां स्थित है यहां पर भारी मात्रा में तांबे के खनिज उपलब्ध होने के प्रमाण मिले हैं। इसके अलावा, तालिबान भारी आर्थिक समस्या से जूझ रहा है। इसलिए वो इन बौद्ध मूर्तियों के संरक्षण की बात करके चीन को धार्मिक सहिष्णुता का संदेश देना चाहता है। तालिबान को उम्मीद है कि चीनी सरकार यहां पर निवेश करेगी और इन खनिजों के दोहन में उनकी मदद करेगी। ग़ौरतलब है कि साल 2003 में यूनेस्को ने बामियान बुद्धों के अवशेषों को विश्व धरोहर स्थलों की सूची में शामिल कर लिया था।

प्रश्न 5. प्रसिद्ध दार्शनिक-कवि तिरुवल्लुवर को सम्मानित करने के लिए कौन सा राज्य ‘तिरुवल्लुवर दिनम (दिन)’ मनाता है?

A. तमिलनाडु
B. केरल
C. कर्नाटक
D. आंध्र प्रदेश

उत्तर: (A)

व्याख्या: तमिलनाडु, प्रसिद्ध दार्शनिक-कवि तिरुवल्लुवर को सम्मानित करने के लिए ‘तिरुवल्लुवर दिनम (दिन)’ मनाता है। तिरुवल्लुवर के महाकाव्य ‘थिरुक्कुरल’ नामक साहित्यिक कृति में नैतिकता, राजनीति और प्रेम पर 1330 कुराल (दोहे) शामिल हैं। इसका कई अंतरराष्ट्रीय और भारतीय भाषाओं में अनुवाद किया गया है। यह दिन तमिल महीने ‘थाई’ के दूसरे दिन मनाया जाता है।

प्रश्न 6. भारत में निम्नलिखित की उपस्थिति का कालानुक्रमिक क्रम क्या है?

1. सोने के सिक्के
2. पंच चिह्नित चांदी के सिक्के
3. लोहे का हल
4. शहरी संस्कृति

A. 3, 4, 1, 2
B. 3, 4, 2, 1
C. 4, 3, 1, 2
D. 4, 3, 2, 1

उत्तर: (D)

व्याख्या: भारत में सोने के सिक्कों की शुरूआत को लेकर विभिन्न मत हैं, लेकिन विभिन्न ऐतिहासिक स्रोतों से यह स्पष्ट है कि सोने के सिक्के सबसे पहले भारत में हिंद-यूनानियों द्वारा जारी किए गए थे। उन्होंने 270 ईसा पूर्व के आसपास सोने के सिक्कों की शुरुआत की। शासक, एंटोकियोस II विभिन्न आर्थिक कारणों से सोने के सिक्कों को पेश करने वाला पहला व्यक्ति था। लेकिन दूसरी ओर सोने के सिक्के इतने बड़े पैमाने पर प्रचलन में नहीं थे। वे संख्या में सीमित थे, लेकिन इनकी शुरूआत इंडो-यूनानियों के शासनकाल में हुई। लोकप्रिय शिक्षाविदों में, कुषाण अपने सोने के सिक्के जारी करने के लिए भी प्रसिद्ध हैं।

पहला प्रलेखित सिक्का 7वीं - 6वीं शताब्दी ईसा पूर्व और पहली शताब्दी ईस्वी के बीच जारी ‘पंच मार्क’ सिक्कों से शुरू माना जाता है।

मध्य भारतीय क्षेत्र सबसे पहले लोहे का उपयोग करने वाला केंद्र प्रतीत होता है। कुछ इतिहासकारों का मानना है कि मध्य गंगा के मैदान और पूर्वी विंध्य में लोहे का प्रयोग दूसरी सदी ई.पू. की शुरुआत से प्रचलित था। भारत में गलाने वाले लोहे का सबसे पहला प्रमाण 1300 से 1000 ईसा पूर्व का मिलता है।

शहरी सभ्यता पहली बार प्राचीन भारत में सिंधु घाटी सभ्यता के साथ तीसरी सहस्राब्दी ईसा पूर्व की शुरुआत में दिलाई दी थी।

प्रश्न 7. भारत के सांस्कृतिक इतिहास के संदर्भ में, निम्नलिखित में कौन सा/से कथन सत्य है/हैं?

1. फतेहपुर सीकरी में बुलंद दरवाजा और खानकाह बनाने में सफेद संगमरमर का इस्तेमाल किया गया था।
2. लखनऊ में बड़ा इमामबाड़ा और रूमी दरवाजा बनाने में लाल बलुआ पत्थर और संगमरमर का इस्तेमाल किया गया था।

A. केवल 1
B. केवल 2
C. 1 और 2 दोनों
D. न तो 1, न ही 2

उत्तर: (A)

व्याख्या: रूमी दरवाजे की स्थापत्य शैली पूरी तरह से लखनऊ की नवाबी वास्तुकला से मेल खाती है, और यह मुगलों की शैली से काफी अलग है। दरवाजे के लिए इस्तेमाल की जाने वाली सामग्री ईंटें हैं और फिर उस पर चूने का लेप लगाया जाता है, जबकि मुगल अक्सर लाल बलुआ पत्थर का इस्तेमाल करते थे। यही कारण है कि दरवाजे का विवरण अधिक जटिल है, जिसे पत्थर में हासिल करना असंभव होगा।