प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना "चरण-3" (Pradhan Mantri Garib Kalyan Anna Yojana) : डेली करेंट अफेयर्स

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना "चरण-3" (Pradhan Mantri Garib Kalyan Anna Yojana)

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (चरण-3) के तहत राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (एनएफएसए) के लाभार्थियों को दो महीने (मई और जून 2021) के लिए अतिरिक्त खाद्यान्न आवंटन को मंजूरी दी है।

प्रमुख बिन्दु

  • प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में केन्द्रीय मंत्रिमंडल ने प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (चरण-3) के तहत राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (एनएफएसए) के लाभार्थियों के लिए अतिरिक्त खाद्यान्न आवंटन को दो महीने (मई और जून 2021) के लिए बढ़ा दिया है। इसके अंतर्गत, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत आने वाले लगभग 79 करोड़ 88 लाख लाभार्थियों को प्रतिमाह 5 किलोग्राम खाद्यान्न प्रति व्यक्ति निःशुल्क दिया जाता है I
  • भारत सरकार का कहना है कि इस अतिरिक्त आवंटन से कोरोना वायरस के कारण पैदा हुए आर्थिक गतिरोध से गरीबों के सामने जीवनयापन में आई कठिनाइयों को कुछ कम किया जा सकेगा।
  • इसके अतिरिक्त, आनेवाले दो महीनों में किसी भी गरीब परिवार को खाद्यान्न की अनुपलब्धता के कारण संकट का सामना नहीं करना पड़ेगा।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (PMGKAY)

  • कोविड-19 महामारी की चुनौतियों से निपटने हेतु भारत सरकार द्वारा 'प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना' (Pradhan Mantri Garib Kalyan Anna Yojana- PMGKAY) को मार्च 2020 में मंजूरी प्रदान की गई थी।
  • दरअसल इस योजना को ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज’ (Pradhan Mantri Garib Kalyan Package-PMGKP) के एक हिस्से के रूप में लांच किया गया था।
  • 'प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना' ( PMGKAY) के अंतर्गत प्रत्येक व्यक्ति को ‘राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम’ (National Food Security Act- NFSA) के तहत प्रदान किये जाने वाले 5 किलो अनुदानित अनाज के अतिरिक्त निशुल्क अनाज प्रदान किया जाता है।
  • अतिरिक्त निशुल्क अनाज की यह मात्रा 5 किलोग्राम है।

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज (PMGKP)

  • कोविड-19 महामारी की चुनौतियों से निपटने हेतु भारत सरकार द्वारा ‘प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज’ (Pradhan Mantri Garib Kalyan Package-PMGKP) की शुरुआत मार्च 2020 को की गई थी। इसके अंतर्गत तीन योजनाएँ आती हैं-
  • स्वास्थ्य कर्मियों के लिये बीमा योजना
  • प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना
  • प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना

क्या है राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 एवं इसके मौजूदा मापदंड?

  • राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (एनएफएसए), 2013 का उद्देश्य एक गरिमापूर्ण जीवन जीने के लिए लोगों को वहनीय मूल्यों पर अच्छी गुणवत्ता के खाद्यान्न की पर्याप्त मात्रा उपलब्ध कराते हुए उन्हें मानव जीवन-चक्र दृष्टिकोण में खाद्य और पौषणिक सुरक्षा प्रदान करना है।
  • पात्र व्यक्ति को चावल/ गेहूं/मोटे अनाज क्रमश: 3/ 2/1 रूपए प्रति किलोग्राम के वहनीय मूल्यों पर 5 किलोग्राम खाद्यान्न प्रति व्यक्ति प्रति माह प्रदान किया जाता है। मौजूदा अंत्योदय अन्न योजना परिवार, जिनमें निर्धनतम व्यक्ति शामिल हैं उनको 35 किलोग्राम खाद्यान्न प्रति परिवार प्रति माह प्रदान किया जाता है।
  • वर्तमान में, एनएफएसए की तहत शामिल जनसंख्या-
  • ग्रामीण आबादी का 75 प्रतिशत,
  • शहरी आबादी का 50 प्रतिशत है,
  • देश की कुल जनसंख्या का लगभग 67 प्रतिशत।
  • वर्तमान में एनएफएसए के अंतर्गत आने वाले-
  • अंत्योदय अन्न योजना में शामिल परिवारों में (लगभग 2.37 करोड़ परिवार या 9.01 करोड़ व्यक्ति,) प्रत्येक को प्रति माह 35 किलोग्राम खाद्यान्न दिया जाता है।
  • जबकि प्राथमिकता वाले परिवारों (लगभग 70.35 करोड़ व्यक्ति) को प्रति व्यक्ति प्रति माह 5 किलोग्राम खाद्यान्न दिया जाता है।

एनएफएसए से संबन्धित नीति आयोग की सिफ़ारिश

  • नीति आयोग ने कुछ दिनों पूर्व एनएफएसए के तहत 75 प्रतिशत और 50 प्रतिशत के इस मौजूदा ग्रामीण और शहरी कवरेज को कम करके क्रमशः 60 प्रतिशत और 40 प्रतिशत करने की सिफारिश की थी।
  • नीति आयोग के मुताबिक, ऐसा करने से अनुमानतः सब्सिडी पर होने वाले खर्चे में 47,229 करोड़ रुपये तक की वार्षिक बचत हो सकती है।