‘इलेक्ट्रिसिटी एक्सेस इन इंडिया एंड बेंचमार्किंग डिस्ट्रिब्यूशन यूटिलिटीज’ रिपोर्ट : डेली करेंट अफेयर्स

‘इलेक्ट्रिसिटी एक्सेस इन इंडिया एंड बेंचमार्किंग डिस्ट्रिब्यूशन यूटिलिटीज’ रिपोर्ट

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में नीति आयोग, विद्युत मंत्रालय, रॉकफेलर फाउंडेशन(Rockefeller Foundation) और स्मार्ट पावर इंडिया ने ‘इलेक्ट्रिसिटी एक्सेस इन इंडिया एंड बेंचमार्किंग डिस्ट्रिब्यूशन यूटिलिटीज’(Electricity Access in India and Benchmarking Distribution Utilities) रिपोर्ट जारी की है।

‘इलेक्ट्रिसिटी एक्सेस इन इंडिया एंड बेंचमार्किंग डिस्ट्रिब्यूशन यूटिलिटीज’ रिपोर्ट के बारे में

  • ‘इलेक्ट्रिसिटी एक्सेस इन इंडिया एंड बेंचमार्किंग डिस्ट्रिब्यूशन यूटिलिटीज’ रिपोर्ट को 10 राज्यों में किए गए प्राथमिक सर्वेक्षण के आधार पर तैयार किया गया है।
  • इस रिपोर्ट में भारत की कुल ग्रामीण आबादी के लगभग 65% प्रतिनिधित्व के साथ घरों, वाणिज्यिक उद्यमों और संस्थानों के 25,000 से अधिक सैंपल साइज को शामिल किया गया है। इस रिपोर्ट में 25 वितरण उपयोगिताओं(distribution utilities) का आकलन किया गया है।

रिपोर्ट के मुख्य निष्कर्ष

  • रिपोर्ट में बताया गया है कि सर्वे में शामिल सभी उपभोक्ताओं के पास बिजली कनेक्शन नहीं है। इसका प्राथमिक कारण घरों के नजदीकी बिजली के खंभे से दूरी है।
  • इस सर्वे में शामिल 87% उपभोक्ताओं के पास ग्रिड आधारित बिजली की पहुंच है। इनके अलावा बाकी 13% या तो गैर-ग्रिड स्रोतों का इस्तेमाल कर रहे हैं या बिजली का उपयोग नहीं कर रहे हैं।
  • ग्राहकों की सभी श्रेणियों में बिजली आपूर्ति में लगभग 17 घंटे प्रतिदिन का बड़ा सुधार हुआ है।
  • लगभग 85% ग्राहकों ने इस बात की जानकारी दी कि उनके पास मीटर आधारित बिजली कनेक्शन है।
  • घरेलू उपभोक्ताओं में 83% के पास बिजली की पहुंच है।
  • उपयोगिता सेवाओं (distribution utilities) के संबंध में ग्राहकों के संपूर्ण संतुष्टि के स्तर का आकलन करने के लिए एक संतुष्टि सूचकांक बनाया गया था। इसके अध्ययन में यह बात सामने आई है कि सर्वे में शामिल 66% ग्राहक संतुष्ट हैं। इनमें 74% शहरी और 60% ग्रामीण उपभोक्ता हैं।

रिपोर्ट का महत्व

  • इस रिपोर्ट ने सरकार की योजनाओं जैसे; प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना और दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के फायदों को रेखांकित किया है, जिन्हें ग्रामीण के साथ शहरी क्षेत्रों में भी हासिल किया गया है।
  • यह रिपोर्ट सभी लोगों तक सस्ती और विश्वसनीय बिजली की पहुंच सुनिश्चित करने के प्रति भारत की प्रतिबद्धता को दिखाती है। हालाँकि भारत सरकार सार्वजनिक बिजली वितरण उपयोगिताओं में सुधार हेतु काफी कार्य करना शेष है।
  • यह रिपोर्ट भारत में बेहतर प्रदर्शन करने वाली बिजली वितरण उपयोगिताओं द्वारा अपनाई गई सर्वश्रेष्ठ विधियों को रेखांकित करती है। इसके अलावा, सतत बिजली की पहुंच बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण सुझाव देती है।
  • सर्वेक्षण के आंकड़े इस बात की पुष्टि करते हैं कि समय के साथ सभी क्षेत्रों में बिजली पहुंचाने से संबंधित बुनियादी ढांचे में सुधार हुआ है। इसके अलावा, यह भी दिखाता है कि हितधारकों ने सरकार द्वारा उठाए गए सुधारों की सराहना की है।

रिपोर्ट में प्रस्तुत सुझाव

  • गैर-घरेलू ग्राहकों को प्राथमिकता के स्तर पर नए कनेक्शन देना,
  • ग्राहकों के खाते में सब्सिडी या दूसरे फायदों को सीधे देना
  • उन्नत प्रौद्योगिकी आधारित ग्राहक सेवा को बढ़ावा देना
  • 100% ग्राहकों का मीटर कनेक्शन सुनिश्चित करना
  • फीडर लाइनों को अलग करना
  • नीति और नियमन, प्रक्रिया सुधार, बुनियादी ढांचे और उपयोगिताओं के निर्माण क्षमता के क्षेत्र से संबंधित रिपोर्ट की प्रमुख सिफारिशों को अमल में लाया जाए।
  • तीन मुख्य क्षेत्रों- पंजाब में डीबीटी योजनाओं से सीख, टैरिफ सरलीकरण के साथ इसे युक्तिसंगत बनाना और उच्च प्रदर्शन वाले भारतीय डिस्कॉमों की सर्वश्रेष्ठ कार्यविधियों को रेखांकित करते हुए इसे अन्य राज्यों में प्रोत्साहन देना चाहिये।

नीति आयोग के बारे में

  • केंद्रीय मंत्रिमंडल के एक संकल्प द्वारा 1 जनवरी, 2015 को योजना आयोग के स्थान पर नीति आयोग का गठन किया गया था।
  • नीति आयोग में सहकारी संघवाद की भावना को केंद्र में रखते हुए अधिकतम शासन, न्यूनतम सरकार के दृष्टिकोण की परिकल्पना को स्थान दिया गया है।

रॉकफेलर फाउंडेशन(Rockefeller Foundation) के बारे में

  • रॉकफेलर फाउंडेशन(Rockefeller Foundation), न्यूयॉर्क शहर(यूएसए) स्थित एक निजी संस्थान है।

स्मार्ट पावर इंडिया

  • स्मार्ट पावर इंडिया (Smart Power India), अक्षय ऊर्जा मिनी-ग्रिड(renewable energy mini-grids) द्वारा प्रदान की गई बिजली की पहुंच के माध्यम से भारत के गांवों में आर्थिक विकास करने में मदद करता है।