यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में डेली करेंट अफेयर्स (28 सितंबर 2020)

Daily Current Affairs for UPSC, IAS, UPPSC/UPPCS, BPSC, MPPSC, RPSC and All State PCS Examinations


यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में डेली करेंट अफेयर्स

Daily Hindi Current Affairs for UPSC, IAS, UPPSC/UPPCS, BPSC, MPPSC, RPSC and All State PCS Examinations


डेस्टिनेशन नॉर्थ ईस्ट-2020

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में केंद्रीय गृहमंत्री ने वर्चुअल माध्यम से “डेस्टिनेशन नॉर्थ ईस्ट- 2020”( Destination North East -2020) का उद्घाटन किया। केंद्रीय गृहमंत्री पूर्वोत्तर परिषद के अध्यक्ष भी हैं।

प्रमुख बिन्दु

  • पूर्वोत्तर भारत का गहना है, उसके बिना भारतीय संस्कृति अधूरी हैं। यहाँ की मनोहरी सुंदरता का परिदृश्य, अनंत विशालता का मंत्र देने वाली स्थानीय आबादी का एक अद्भुत मिश्रण पूरी दुनिया को एक संदेश देता है।
  • प्राकृतिक सौंदर्य, लोक संस्कृति और कला से भरपूर पूर्वोत्तर विश्व पर्यटन का एक प्रमुख केंद्र बनने में सक्षम है।
  • 14वें वित्त आयोग ने पूर्वोत्तर के लिए आवंटन में 251 प्रतिशत की बढ़ोतरी करते हुए 3,13,375 करोड़ रुपये दिये हैं। भारत सरकार ने विकास का सर्वस्पर्शी और सर्वसमावेशी स्वरूप अपनाते हुए पूर्वोत्तर परिषद के बजट का 21 प्रतिशत पिछड़े जिलों, गाँवों, पिछड़े क्षेत्रों और विकास से वंचित समुदाय पर खर्च करने का फैसला किया है।

डेस्टिनेशन नॉर्थ ईस्ट-2020

  • यह कार्यक्रम मुख्य रूप से पर्यटन पर केंद्रित है।
  • डेस्टिनेशन नॉर्थ ईस्ट, पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्रालय का एक कैलेंडर ईवेंट है जिसे पूर्वोत्तर क्षेत्र को देश के अन्य हिस्सों के करीब लाने और राष्ट्रीय एकीकरण को मजबूत करने के उद्देश्य से संकल्पित किया गया है।
  • चार दिवसीय कार्यक्रम में राज्यों और क्षेत्र के पर्यटन स्थलों की ऑडियो विजुअल प्रस्तुति, राज्य के प्रसिद्ध और उपलब्धियां हासिल करने वाले व्यक्तियों के संदेश, प्रमुख स्थानीय उद्यमियों से परिचय कराया जाएगा और इसमें हस्तकला / पारंपरिक फैशन / और स्थानीय उत्पादों की आभासी प्रदर्शनी की सुविधा होगी।
  • साथ ही राज्य अपने—अपने सांस्कृतिक कार्यक्रम और मिली-जुली संस्कृतियों के संयोजन का प्रदर्शन करेंगे।

डेस्टिनेशन नॉर्थ ईस्ट-2020 का उद्देश्य

  • 30 सितंबर तक चलने वाले ‘डेस्टिनेशन नॉर्थ ईस्ट-2020’ का उद्देश्य पूर्वोत्तर के पर्यटनस्थलों के साथ-साथ देश की विभिन्न संस्कृतियों का एक-दूसरे के साथ परिचय कराना है और इसके माध्यम से पूरा भारत भी नॉर्थ ईस्ट की संस्कृति से परिचित होगा।

डेस्टिनेशन नॉर्थ ईस्ट-2020 की थीम

  • डेस्टिनेशन नॉर्थ ईस्ट-2020 की थीम "द इमर्जिंग डिलेक्टिव डेस्टिनेशंस" (The Emerging Delightful Destinations) है, जो पर्यटन स्थलों को मजबूत और अधिक आकर्षक बनाने की बात करती है।

75वें संयुक्त राष्ट्र महासभा और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का संबोधन

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में 75 वें संयुक्त राष्ट्र महासभा (UNGA) के 2020 सत्र को भारतीय प्रधानमंत्री ने भी संबोधित किया।
  • संयुक्त राष्ट्र महासभा में वर्चुअल रूप दिया गया भारतीय प्रधानमंत्री के संबोधन का मूलपाठ नीचे बिन्दुवार तरीके से वर्णित किया गया है।

भारतीय प्रधानमंत्री के संबोधन का मूलपाठ

  • 1945 की दुनिया जिस समय संयुक्त राष्ट्र का गठन हुआ तब से लेकर आज तक वैश्विक परिवेश का काफी बदल गया है क्या उस हिसाब से संयुक्त राष्ट्र में व्यापक बदलाव हुए हैं?
  • 21वीं सदी में हमारे वर्तमान व भविष्य की आवश्यकताएं और चुनौतियां अब कुछ और हैं। इसलिए
  • आज पूरे विश्व समुदाय के सामने एक बहुत बड़ा सवाल है कि जिस संस्था का गठन तब की परिस्थितियों में हुआ था, उसका स्वरूप क्या आज भी प्रासंगिक है? सदी बदल जाये और हम न बदलें तो बदलाव लाने की ताकत भी कमजोर हो जाती है |
  • पिछले वर्षों में संयुक्त राष्ट्र के नाम कई उपलब्धियां रही हैं एवं तृतीय विश्व युद्ध नहीं हुआ लेकिन इस बात को नकारा नहीं जा सकता कि इस संस्था के होने के बावजूद भी अनेकों युद्ध हुए तथा अनेकों गृहयुद्ध भी हुए हैं।
  • संयुक्त राष्ट्र की प्रतिक्रियाओं में बदलाव, व्यवस्थाओं में बदलाव, स्वरूप में बदलाव, आज समय की मांग है।
  • भारत के लोग संयुक्त राष्ट्र के रिफ़ार्म (reforms) को लेकर जो प्रक्रिया(Process) चल रही है, उसके पूरा होने का बहुत लंबे समय से इंतजार कर रहे हैं। आज भारत के लोग चिंतित हैं कि क्या ये प्रक्रिया कभी एक तार्किक अंत (logical end) तक पहुंच पाएगा। आखिर कब तक, भारत को संयुक्त राष्ट्र के निर्णय लेने की संरचना (decision making structures) से अलग रखा जाएगा?
  • दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र जहां विश्व की 18 प्रतिशत से ज्यादा जनसंख्या रहती है। एक ऐसा देश, जहां सैकड़ों भाषाएं हैं, सैकड़ों बोलियां हैं, अनेकों पंथ हैं तथा अनेकों विचारधाराएं हैं। जिस देश ने सैकड़ों वर्षों तक वैश्विक अर्थव्यवस्था का नेतृत्व करने और सैकड़ों वर्षों की गुलामी, दोनों को जिया है,को संयुक्त राष्ट्र में यथोचित स्थान में मिलना एक चिंता का विषय है।
  • संयुक्त राष्ट्र जिन आदर्शों के साथ स्थापित हुआ था और भारत की मूल दार्शनिक सोच बहुत मिलती जुलती है, अर्थात दोनों अलग-अलग नहीं है। संयुक्त राष्ट्र के इसी हॉल में ये शब्द अनेकों बार गूंजा है- वसुधैव कुटुम्बकम। हम पूरे विश्व को एक परिवार मानते हैं। यह हमारी संस्कृति, संस्कार और सोच का हिस्सा है। संयुक्त राष्ट्र में भी भारत ने हमेशा विश्व कल्याण को ही प्राथमिकता दी है। भारत वो देश है जिसने शांति की स्थापना के लिए लगभग 50 शांति मिशन (peacekeeping missions) में अपने जांबाज सैनिक भेजे हैं। भारत वो देश है जिसने शांति की स्थापना में सबसे ज्यादा अपने वीर सैनिकों को खोया है।
  • 02 अक्टूबर को ‘अंतर्राष्ट्रीय अहिंसा दिवस’(International Day of Non- Violence) और 21 जून को ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’( International Day of Yoga), इनकी पहल भारत ने ही की थी।
  • आपदा प्रतिरोधी संरचना हेतु गठबंधन (Coalition for Disaster Resilient Infrastructure) और अंतर्राष्ट्रीय सौर गठबंधन (International Solar Alliance), ये भारत के ही प्रयास हैं।
  • भारत ने हमेशा पूरी मानव जाति के हित के बारे में सोचा है, न कि अपने निहित स्वार्थों के बारे में। भारत की नीतियां हमेशा से इसी दर्शन से प्रेरित रही हैं। भारत की पड़ोसी प्रथम नीति (Neighbourhood First Policy) से लेकर एक्ट ईस्ट पालिसी (Act East Policy) तक, क्षेत्र में सभी के लिए सुरक्षा और विकास (Security And Growth for All in the Region) की सोच हो या फिर हिन्द-प्रशांत (Indo Pacific) क्षेत्र के प्रति हमारे विचार, सभी में इस दर्शन की झलक दिखाई देती है।

संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा के 75वें सम्‍मेलन की थीम

  • संयुक्‍त राष्‍ट्र महासभा के 75वें सम्‍मेलन की थीम है- ''हमारी आकांक्षा का भविष्य और आवश्‍यकता के अनुरूप संयुक्‍त राष्‍ट्र, बहुपक्षवाद के प्रति सामूहिक प्रतिबद्धता की पुष्टि और प्रभावी बहुपक्षीय प्रयासों से कोविड संकट से निपटना''। संयुक्त राष्ट्र महासभा (United Nations General Assembly- UNGA)
  • 1945 में संयुक्त राष्ट्र चार्टर के तहत संयुक्त राष्ट्र महासभा (United Nations General Assembly-UNGA) की स्थापित की गयी थी ।
  • यह संयुक्त राष्ट्र संघ में नीति-निर्माण , विचार-विमर्श और विभिन्न वैश्विक मुद्दों पर प्रतिनिधि संस्था के रूप में काम करती है; अर्थात संयुक्त राष्ट्र महासभा अपने चार्टर के तहत कवर किये गए अंतर्राष्ट्रीय मुद्दों पर बहुआयामी और बहुपक्षीय चर्चा के लिये एक बेहतरीन मंच उपलब्ध कराती है।
  • वर्तमान में संयुक्त राष्ट्र महासभा के 193 सदस्य देश हैं।
  • तुर्की के राजनयिक वोल्कन बोजकिर (Volkan Bozkir) को संयुक्त राष्ट्र महासभा के 75 वें सत्र का अध्यक्ष चुना गया है। महासभा अध्यक्ष का कार्यकाल एक वर्ष का होता है।
  • संयुक्त राष्ट्र महासभा का मुख्यालय न्यूयॉर्क(अमेरिका) में है।