यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (विषय: ओपन नेटवर्क फॉर डिजिटल कामर्स (Open Network for Digital Commerce)

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में भारत सरकार ने अपना ई - कामर्स कंपनी शुरू किया है ताकि अमेजॉन और वालमार्ट जैसे प्रभावशाली और दिग्गज कंपनियों के एकाधिकार को कम करते हुए लोगों को एक वैकल्पिक व्यवस्था दिया जा सके।
  • इसे डिजिटल कामर्स हेतु ओपन नेटवर्क (ONDC) नाम दिया गया है।

ओपन नेटवर्क फॉर डिजिटल कामर्स

  • यह एक गैर - लाभकारी कंपनी है जिसका नेटवर्क सभी उत्पादों एवं सेवाओं को सभी ई - कामर्स से सबंधिंत एप्लिकेशन के नेटवर्क पर सक्षम बनाने का कार्य करेगा।
  • इसका उद्देश्य है कि आने वाले दो वर्षों में भारतीय उपभोक्ताओं के डिजिटल क्रय का 25% मार्केट आकर्षित करना जोकि 135 करोड़ लोगों के 8% के बराबर होगा।
  • इसके अतिरिक्त सरकार आशान्वित है कि आने वाले पांच वर्षों में 90 करोड़ खरीदकर्ता (BUYERS) और 12 लाख विक्रयकर्ता (SELLERS) इस प्लेटफॉर्म पर साइन अप करेंगे जिससे कुल सकल व्यापार 48
    बिलियन डॉलर का होगा।
  • सरकार ने उपलब्ध आकंड़ों की गणना करके आकलन किया है कि ई - कामर्स मार्केट का कुल सकल व्यापार 2021 में 55 बिलियन डॉलर था जिसमें तेजी से वृद्धि हो रही है और यह इस दशक के अतं तक 350 बिलियन डॉलर तक पहुँच सकता है जोकि पाकिस्तान जैसे देशों की अर्थव्यवस्था के बराबर होगा।
  • वर्तमान समय में अमेजॉन और वालमार्ट की फ्रिलपकार्ट कुल मार्केट का लगभग 60% को कंट्रोल करते हैं।

इकॉनोमी बूस्ट करने का उद्देश्य

  • मौजूदा प्लेटफॉर्म भूमिगत कक्ष (SILOS) होकर और सख्त नियत्रंण में कार्य करता है जिससे कुछ छोटे प्लेयर्स बाहर हो जाते हैं। परन्तु इससे उम्मीद की जा रही है कि प्रति स्पर्धा समावेशी होगी जिससे स्टार्ट अप के नवीनीकरण को बढ़ावा मिलेगा।
  • डिजिटल कामर्स हेतु ओपन नेटवर्क लोजिस्टिक क्स फर्म और अन्य प्लयेर को एक साथ लाएगा ताकि दोनों एक साथ सहमति या समझौते के फलस्वरूप क्रेता - विक्रेता में सामजंस्य बना रहे।
  • इसका फोकस भारतीय भाषाओ में एप्लिकेशन के माध्यम से छोटे व्यापारी और ग्रामीण उपभोक्ता पर होगा।
  • यह प्लेटफॉर्म कुछ चुनिन्दा विक्रेताओं के अवसरों को सीमित करेगा ताकि सभी को समान अवसर प्रदान किया जा सके।
  • यह उपभोक्ताओं को सेवा प्रदाता कंपनी के बारे में जागरूक करेगा जिसके लिए रेटिगं को सभी नेटवर्क पर दिखाया जायेगा।
  • यह प्लेटफॉर्म बढ़ा चढ़ाकर मार्जिन लेने वाली कीमतों को समय के साथ कम करेगा ताकि स्वस्थ प्रतिस्पर्धा को बढ़ावा मिले।
  • डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के अतंर्गत सरकार ने डिजिटलीकरण को बढ़ावा देने हेतु कई पहलुओ को शुरू किया है जैसे- उमंग , स्टार्ट अप इंडिया, भीम इत्यादि।
  • सरकार ने भारत में 5जी फाइबर नेटवर्क के जाल बिछाने हेतु बहुत बड़े स्तर पर निवेश करने का फैसला किया है।

अन्य महत्वपूर्ण तथ्य

  • जैसा कि उपभोक्ता से संबंधित विवादों के निवारण हेतु आयोग का नियम है कि रूपये 5 लाख तक के केस दायर करने की कोई फीस नहीं होगी।
  • ई - कामर्स प्लेटफॉर्म को किसी भी उपभोक्ता के शिकायत की रशीद को 48 घंटे के अदंर संज्ञान में लेना होगा।
  • सभी ई - कामर्स प्रदाताओं को कुछ महत्वपूर्ण सूचनाओं को बताने की जरुरत होगी जैसे - सामानों की वापसी, एक्सचेंज, वारंटी और गारंटी, शिपमेंट और डिलीवरी से सम्बधिंत जानकारी, भगुतान का रूप (MODE OF PAYMENT), शिकायत निवारण तंत्र आदि।

निष्कर्ष

  • डिजिटल माध्यम से व्यापार के अवसरों को बढ़ावा देने में इंटरनेट ने बहुत सहायता किया है जिसमें ई - कॉमर्स भी एक सर्वाधिक प्रचलित प्लेटफॉर्म है।
  • बिना किसी शक के ई - कॉमर्स अपने समाज का एक प्रमुख अंग बन गया है।
  • आज के समय में ई - कॉमर्स सचूना तकनीकी का मुद्दा न होकर पूरी प्रणाली को देख रहा है।