यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (विषय: कमोडिटीज और रूस-यूक्रेन युद्ध (Commodities & Russia-Ukraine War)

खबरों में क्यों?

  • रूसी सेना द्वारा यूक्रेन पर आक्रमण करने के बाद कमोडिटी की कीमतों में अत्यधिक वृद्धि हुई है। ब्लूमबर्ग कमोडिटी इंडेक्स ने फरवरी, 2022 में 1960 के बाद से अपनी सबसे बड़ी साप्ताहिक वृद्धि दर्ज की।

कमोडिटी की कीमतों में वृद्धि के कारण

  • रूस और यूक्रेन के बीच सैन्य संघर्ष के कारण वैश्विक कमोडिटी सप्लाई चेन में व्यवधान उत्पन्न हुआ है ।
  • संयुक्त राज्य अमेरिका और यूरोपीय संघ रूसी बैंकों को स्विफ्ट भुगतान संदेश प्रणाली से काटकर और रूस के विदेशी भंडार को फ्रीज करके रूस की अर्थव्यवस्था को कमजोर करने के उपाय कर रहे हैं।
  • यूक्रेन, वैश्विक गेहूं निर्यात का लगभग 12% और वैश्विक मक्का निर्यात का 13% आपूर्ति करता है।
  • दुनिया के अन्य हिस्सों में आपूर्तिकर्ता रूस और यूक्रेन में उत्पादन के नुकसान की भरपाई के लिए अपने उत्पादन में वृद्धि करने में विफल रहे हैं।

कमोडिटी मुद्रास्फीति और रूस-यूक्रेन युद्ध

  • 2021 के बाद से, जब सरकारों द्वारा लॉकडाउन को धीरे-धीरे हटा लिया गया और अर्थव्यवस्थाओं को खोलने की अनुमति दी गई, तब से कमोडिटी की कीमतों में काफी वृद्धि हुई है ।
  • वैश्विक अर्थव्यवस्था में विभिन्न उतार-चढ़ावों के कारण, लॉकडाउन से बाधित आपूर्ति श्रृंखलाओं को सामान्य स्थिति में लौटने में कुछ समय लगा।
  • माल की आपूर्ति सीमित थी और यह कमी उच्च कीमतों के रूप में परिलक्षित हुई ।
  • एक विचार के रूप में, कई देश द्वारा जीवाश्म ईंधन को अक्षय ऊर्जा से बदलना, जिंसों की कीमतों में वृद्धि के पीछे संभावित कारण हो सकता हैं।
  • अक्षय ऊर्जा पर जोर ने निवेशकों को पारंपरिक जीवाश्म ईंधन के उत्पादन में निवेश करने से हतोत्साहित किया है।
  • महामारी के दौरान प्रमुख वैश्विक केंद्रीय बैंकों को अपनी अर्थव्यवस्थाओं में भारी मात्र में धन आपूर्ति की, जिससे मांग-आपूर्ति अंतर पैदा हो गया है ।
  • ब्लूमबर्ग कमोडिटी इंडेक्स द्वारा मापी गई वैश्विक कमोडिटी की कीमतों में 2021 की शुरुआत से 60% से अधिक की वृद्धि हुई है।

रूस की ऊर्जा और वस्तु निर्यात

कच्चा तेल

  • अमेरिका और सऊदी अरब के बाद रूस दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा तेल उत्पादक देश है। यह वैश्विक तेल उत्पादन के लगभग 12% के लिए जिम्मेदार है। रूस का लगभग 60% तेल निर्यात ओईसीडी यूरोप और 20% चीन को जाता है।

प्राकृतिक गैस

  • रूस ने दुनिया की लगभग 16% प्राकृतिक गैस का उत्पादन किया। रूस यूरोपीय संघ की लगभग आधी गैस की आपूर्ति करता है। 2021 में, रूस, यूरोपीय संघ के गैस आयात का लगभग 45% और इसकी कुल गैस खपत का 40% का आपूर्तिकर्ता था ।

सोना

  • ऑस्ट्रेलिया और चीन के बाद रूस दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा सोने का उत्पादक है। इसने पिछले साल लगभग 350 टन कीमती धातु की आपूर्ति की थी।

कोयला

  • रूस दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा कोयला उत्पादक देश है।

गेहूं

  • रूस ने पिछले साल 75.5 टन गेहूं का उत्पादन किया, और यह वैश्विक निर्यात आपूर्ति का लगभग 17% के साथ सबसे बड़ा गेहूं निर्यातक देश है।

निकेल

  • रूस वैश्विक निकल उत्पादन का लगभग 7% हिस्सा है और तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक है। निकेल इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए स्टेनलेस स्टील और बैटरी के उत्पादन में एक प्रमुख घटक है।

पैलेडियम

  • पैलेडियम के दुनिया के सबसे बड़े उत्पादक के रूप में स्थिति के लिए रूस दक्षिण अफ्रीका के साथ प्रतिस्पर्धा में रहता है। ऑटोमोबाइल में उत्सर्जन को कम करने के लिए, उत्प्रेरक कन्वर्टर्स के उत्पादन में पैलेडियम का उपयोग किया जाता है।

तांबा

  • रूस वैश्विक तांबे का लगभग 3.5% आपूर्ति करता है, जिसका उपयोग तारों और बिजली के तारों में किया जाता है।

एल्युमिनियम

  • चीन के बाद रूस दुनिया का सबसे बड़ा एल्युमीनियम उत्पादक देश है। यह वैश्विक आपूर्ति का लगभग 6% है।

भविष्य की राह

  • रूस-यूक्रेन युद्ध की प्रक्रिया, जो इस समय अप्रत्याशित है, स्वाभाविक रूप से आगे आने वाली वस्तुओं की कीमत को प्रभावित करेगी।
  • यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि रूस की अर्थव्यवस्था को दुनिया के बाकी हिस्सों से काटने से न केवल रूस प्रभावित हो सकता है, बल्कि उन व्यवसायों और उपभोत्तफ़ाओं को भी प्रभावित कर सकता है जो रूसी अर्थव्यवस्था पर निर्भर हैं।
  • युद्ध और प्रतिबंधों से केवल रूस ही नहीं बल्कि शेष विश्व भी पीडि़त होगा।
  • चूंकि वैश्विक अर्थव्यवस्था महामारी से उबरने के लिए संघर्ष कर रही है जबकि कीमतें तेजी से बढ़ रही हैं, विश्लेषकों ने मुद्रास्फीतिजनित मंदी के जोिखम के बारे में चेतावनी दी है, जो उच्च मूल्य मुद्रास्फीति और कम विकास द्वारा चिह्नित है।