यूपीएससी आईएएस और यूपीपीएससी मुख्य परीक्षा के लिए उत्तर लेखन अभ्यास कार्यक्रम: पेपर - III (सामान्य अध्ययन-2: शासन व्यवस्था, संविधान शासन-प्रणाली, सामाजिक न्याय और अंतर्राष्ट्रीय संबंध) - 03, जुलाई 2020


यूपीएससी आईएएस और यूपीपीएससी मुख्य परीक्षा के लिए उत्तर लेखन अभ्यास कार्यक्रम (Answer Writing Practice for UPSC IAS & UPPSC/UPPCS Mains Exam)


मुख्य परीक्षा पाठ्यक्रम:

  • पेपर - III: सामान्य अध्ययन- II: शासन व्यवस्था, संविधान शासन-प्रणाली, सामाजिक न्याय और अंतर्राष्ट्रीय संबंध

प्रश्न - किसी नीति की सफलता मुख्य रूप से इसके क्रियान्वयन पर निर्भर करती है। इस सन्दर्भ में स्वच्छ भारत अभियान से सम्बन्धित 6 मार्गदर्शक सिद्धांतों का विस्तृत वर्णन कीजिए। (250 शब्द)

मॉडल उत्तर:

  • चर्चा में क्यों है?
  • प्रस्तावना
  • स्वच्छ भारत मिशन के मुख्य बिन्दु
  • मुख्य भाग
  • 6 मार्गदर्शक सिद्धांत
  • निष्कर्ष

चर्चा में क्यों है?

स्वच्छ भारत मिशन (SBM) के लिए 6 महत्वपूर्ण मार्गदर्शक सिद्धान्त निर्धारित किये गये हैं जिन्हें किसी भी वृहद परियोजना के कार्यान्वयन के लिए महत्वपूर्ण माना गया है इन्हे संक्षेप में ए, बी, सी, डी, ई, एफ नाम दिया गया है।

प्रस्तावना -

‘‘स्वच्छ भारत मिशन’’ स्वच्छ और स्वस्थ भारत बनाने के उद्देश्य से प्रारंभ किया गया एक जन आन्दोलन हैं। इसमें मुख्य रूप से शौचालय के प्रयोग के लिए नागरिकों में जागरूकता लाना, हाथ से मैला ढोने की प्रथा को समाप्त करना आदि पर ध्यान केन्द्रित किया गया है। 2014 से सरकार को इस मिशन से सम्बन्धित विभिन्न कठिनाइयों का सामना करना पड़ा है। जिसमें एक महत्वपूर्ण समस्या इस मिशन के कार्यान्वयन से संबंधित थी। इसलिए सरकार एक बड़े परिवर्तन को लेकर सामने आई है, जिसके अन्तर्गत 6 मार्ग दर्शक सिद्धान्त दिये गये हैं।

6 मार्गदर्शक सिद्धान्त जो किसी भी वृहद परियोजना को लागू करने के लिए आवश्यक हैं-

A- अलाइन (Align)

  • किसी भी योजना में परिवर्तन को सफल बनाने के लिए, राज्यों के साथ निरंतर सम्पर्क में रहने की आवश्यकता है।
  • स्वच्छ भारत मिशन की घोषणा के बाद, पेयजल और स्वच्छता विभाग ने पूरे देश में सभी मुख्यमंत्रियों, जिलाधिकारियों तथा संरपंचों को इस संदर्भ में सूचित किया।
  • सीखने के लिए कार्यशालाओं, अनौपचारिक समारोहों और व्हाट्सप्प समूहों के माध्यम से सभी हितधारकों केा एक दूसरे के संपर्क में रहने को प्रोत्साहित किया गया। जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि स्वच्छता सभी के ऐजेंडे में शीर्ष पर है।
  • सामंजस्य बढ़ाने के लिए PM - CM - DM त्रिस्तरीय मॉडल इस दिशा में प्रथम तथा सर्वाधिक महत्वपूर्ण कदम है।

B- बिलीव (Believe)

  • अगला महत्वपूर्ण कदम उन लोगों को मिला कर एक समूह का निर्माण करना था जो यह मानते थे कि, यह लक्ष्य प्राप्त करने योग्य है।
  • नए दृष्टिकोण वाले युवा लोग रचनात्मक कार्यो पर अधिक ध्यान केन्द्रित करते हैं।
  • स्वच्छ भारत मिशन केंद्र और राज्यों में युवा पेशेवरों और अनुभवी नौकरशाहों को एक ही पटल पर लाता है जिससे प्रत्येक व्यक्ति का इस पर विश्वास बढ़ता है।

C- कम्यूनिकेट (Communicate)

  • स्वच्छ भारत मिशन मुख्य रूप से एक व्यवहार परिवर्तन कार्यक्रम है।
  • इसकी सफलता के लिए सभी स्तरों पर संचार आवश्यक है।
  • ‘स्वच्छाग्रहियों’ नामक प्रशिक्षित स्वयंसेवकों का एक समूह बनाया गया था, जो स्वच्छता के संदेशों को संप्रेषित करने के लिए घर-घर जाते थे।
  • स्वच्छ भारत मिशन स्वच्छता के संदेशों को जन-जन तक पहुंचाने के लिये डिजिटल मीडिया के साथ-साथ बॉलीवुड सितारों, खिलाड़ियों और अन्य प्रभावशाली व्यक्तियों का प्रचार के लिए प्रयोग करता है। जिससे उन लोगों से प्रभावित व्यक्तियों को इस मिशन की ओर आकर्षित किया जा सके।

D- डेमोक्रेटिक्साइज (Democratize)

  • स्वच्छता न केवल व्यक्तिगत स्तर पर बल्कि सामुदायिक स्तर पर भी आवश्यक है।
  • स्वच्छ भारत मिशन ने सभी को हित धारक बनाया है, जिससे स्वच्छता मिशन से हर कोई स्वेच्छा से जुड़ गया है।

E- ईवेल्यूऐट (Evaluate)

  • इसमें तीसरे पक्ष की उन्नति की निगरानी करना तथा परिणामों के विषय में जानना आवश्यक है जिससे इस मिशन का मूल्यांकन किया जा सके।
  • विश्व बैंक, यूनिसेफ, बिल और मेलिंडा गेट्स फांउडेशन, तथा विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा स्वच्छ भारत मिशन के शारीरिक, आर्थिक और सामाजिक प्रभावों के साथ ही स्वच्छता की कवरेज तथा उपयोग, इसकी सफलता और सुधारों की विभिन्न स्थितियों का मूल्यांकन किया गया है।

F- फोलो-थ्रू (Follow-through)

  • हाल ही में 10 वर्षीय स्वच्छता नीति ओ डी एफ को ओडी एफ प्लस में परिवर्तित किया गया है।
  • यह सुनिश्चित करना कि स्वच्छता अभियान के बाद भी यह परिवर्तन एक आदत बन जाए, कठिन है। इसके बाद ही स्वच्छता अभियान को महत्वपूर्ण माना जायेगा।

निष्कर्ष -

इन मार्गदर्शक सिद्धान्तों के आधार पर ही, भारत सरकार लोगों को बुनियादी सुविधायें उपलब्ध करा रही है। उपरोक्त सिद्धान्त के अनुरूप ही सरकार जल जीवन मिशन का क्रियान्वयन करने का प्रयास कर रही है।

Click Here for Answer Writing Practice in English

उत्तर लेखन अभ्यास कार्यक्रम के पुरालेख (Archive) के लिए यहां क्लिक करें